हजारीबाग मामले की जांच कर रहे एसआइटी पदाधिकारियों का स्थानांतरण

0
16

रांची। हजारीबाग सदर थाना क्षेत्र के खजांची तालाब के समीप सीडीएम शुभम अपार्टमेंट में रहने वाले माहेश्वरी परिवार के छह सदस्यों की मौत के मामले का खुलासा डेढ़ माह बीत जाने के बाद भी नहीं हो पाया। लोग भी इस मामले में पुलिस के रवैये को देखते हुए इसे फाइलों में बंद करने की कार्रवाई मान रहे हैं। अब इस मामले की जांच से जुड़े अधिकारियों का स्थानांतरण हो गया है। राज्य सरकार ने पिछले दिनों कई अधिकारियों का तबादला किया था। इसमें जांच के लिए गठित एसआइटी के चार अफसरों को भी बदल दिया गया।
ज्ञात हो कि नरेश माहेश्वरी समेत परिवार के छह लोगों का शव उन्हीं के फ्लैट नंबर 302/303 से बरामद किये गये थे। इस खबर से राज्य के साथ ही पूरे देश में सनसनी फैल गई थी। पुलिस ने इस संबंध में परिवार के सदस्यों सहित कई व्यवसायियों से पूछताछ की थी, लेकिन पुलिस के शक के घेरे में कोई भी नहीं आ सका। इस मामले में पुलिस अब तक हत्या और आत्महत्या की गुत्थी के बीच उलझी हुई है। पुलिस अब तक यह बताने में सक्षम नहीं हो पायी है कि यह मामला हत्या का है या आत्महत्या का। इस मामले में रांची के फॉरेंसिक साइंस लैब की जांच भी अभी तक सार्वजनिक नहीं की गयी है। माहेश्वरी परिवार के सदस्यों की बिसरा जांच रिपोर्ट भी अब तक नहीं मिली है। मामले को ठंडा होता देख नरेश माहेश्वरी के परिजनों और मारवाड़ी समाज के प्रतिनिधियों ने प्रेसवार्ता कर मामले के जल्द खुलासे की मांग की थी। इसके बावजूद अब तक इसका खुलासा नहीं हो पाया है।
एजेंसी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here