सरकार ने किया नजरंदाज, ग्रामीणों ने पहुंचाया गांव में पानी

0
102

उत्तराखण्ड, यमकेश्वर/पौड़ी। उत्तराखंड के पौड़ी जिले में यमकेश्वर विकास खंड के जुलेडी ग्राम पंचायत की हालत भी बहुत बिगड़ी हुई थी। यहां के लोग पानी का स्रोत दूर होने के कारण महीने में सिर्फ एक बार नहाते थे। पीने के पानी के लिए भी पहाड़ी पार कर कोसों दूर जाना पड़ता था। लेकिन, उनकी दृढ़ इच्छाशक्ति ने यह स्थित बदल दी है। बिना सरकारी सहायता के स्थानीय लोगों ने गांव में पानी पहुंचाकर एक मिशाल पेश की है।

देश को आजाद हुए करीब 71 साल हो गए, लेकिन कई इलाके अभी भी पानी की पहुंच से कोसों दूर हैं। ग्राम पंचायत जुलेड़ी के अंतर्गत कुल 5 गांव आते हैं। इनमें से ढोसण के हरेंद्र सिंह पयाल ने अपने घर तक पानी लाने के लिए कुछ माह पूर्व काम शुरू किया। उनके साथ गांव के लोग जुड़ते गए। देखते ही देखते उन्होंने पूरे गांव के लिए 12 लाख की लागत से पेयजल योजना खड़ी कर दी। आज पूरे गांव में 24 घंटे पानी उपलब्ध है। जहां पहले लोग एक महीने में एक बार ही नहा पाते थे और पीने के पानी के लिए कई किलोमीटर का सफर तय करते थे, आज वे सब अपने घर में पानी प्राप्त कर रहे हैं। इससे प्रेरित होकर ग्राम पंचायत के अन्य गांव भी पानी के लिए प्रयासरत हैं। 28 जून को बिंजाखेत गांव की पेयजल योजना ने भी काम करना शुरू कर दिया। अब पानी स्टोर करने के लिए टैंक का निर्माण ही शेष बचा है।

आजादी के बाद से अपने घरों में पानी की राह देख रहे बिंजाखेत के लोगों को अब 24 घंटे पानी मिलेगा। सरकारी योजना का लंबे समय से इंतजार कर थक चुके लोगों ने एकजुट होकर खुद की पंपिंग योजना खड़ी कर दी। इतना ही नहीं जहां सरकारी पपिंग योजना से निर्धारित समय पर ही पानी मिल पाता है, वहीं गांववासियों की स्ववित्तपोषित पंपिंग योजना 24 घंटे पानी उपलब्ध कराएगी। ग्राम पंचायत जुलेडी के बिंजाखेत में पेयजल एवं सिंचाई के लिए एक पंपिंग योजना पर कार्य चल रहा है। इसके तहत ग्रामवासी पीने के पानी एवं सिंचाई के लिए 25 हजार लीटर क्षमता का टैंक बना रहे हैं। इस योजना में तीन एचपी की सिंगल फेस मोटर से पानी को स्रोत से 150 मीटर ऊपर पहुंचाया जा रहा है और वहां पर एक टैंक बना कर गांव के करीब 25 परिवारों के लोगों को पानी पहुंचाया जाएगा। इस योजना के बारे में ग्रामवासी बताते हैं कि उन्हें नीचे से पानी लाने में बहुत परेशानी होती थी। आजादी के इतने वर्षों बाद भी सरकार ने उन लोगों के बारे में आज तक नहीं सोचा और अब ग्रामवासियों ने स्वयं अपने लिए यह पंपिंग योजना बनाई है। इस योजना में करीब आठ लाख रुपये खर्च होंगे।

ग्राम पंचायत जुलेडी के ढोसण गांव में सफलतापूर्वक चल रही पंपिंग योजना को लेकर स्थानीय लोग उत्साहित हैं। वे बताते हैं कि यह योजना उनके लिए बहुत महत्वपूर्ण साबित हुई। 74 वर्षीय जयपाल सिंह बताते हैं कि पहले हम लोग महीने में एक बार नहाते थे, क्योंकि पानी बहुत नीचे से लाना पड़ता था। गांव के हरेंद्र सिंह प्याल ने जब इस योजना के बारे में बताया तो सभी ने मिलकर उनके साथ काम शुरू कर दिया। अब घरों में 24 घंटे पानी आता है। जब ढोसण गांव का आधा काम पूरा हो गया तो यमकेश्वर विधायक ऋतू भूषण खंडूड़ी आईं और उन्होंने इसके लिए 5 लाख रुपये की घोषणा भी की, लेकिन अभी तक यह राशि नहीं मिल सकी है।
एजेंसी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here