मंडियों में फसलों के भाव डिस्प्ले करने के निर्देश

0
16

शिवपुरी। जिले के किसानों को उनकी उपज का बेहतर मूल्य दिलाने के साथ-साथ मंडियों में आधुनिक सुविधाएं उपलब्ध कराए जाने के उद्देश्य से अपर कलेक्टर अशोक कुमार चौहान ने कृषि विभाग को अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश जारी किए हैं। उन्होंने कहा है कि जो मंडियां क्रियाशील नहीं हैं, उन्हें क्रियाशील कर उनमें फसलों की खरीदी शुरू की जाए, ताकि किसानों को बिचौलियों से मुक्ति मिले। यह भी देखना होगा कि मण्डी के बाहर किसान की उपज की बिक्री न हो, साथ ही फसलों के भाव भी सभी मंडियों में डिस्पले किए जाए।
अपर कलेक्टर ने कृषि अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि किसानों को अधिक दूरी पर अपनी उपज बेचने के लिए न जाना पड़े, इसका ध्यान रखा जाए। उन्होंने बताया कि जिले की एक वर्षीय, दो वर्षीय एवं तीन वर्षीय जिला स्तरीय विपणन कार्य योजना बनाई जाएगी। इस योजना का क्रियान्वयन के लिए दलों का गठन किया जाएगा। जिला स्तरीय कार्य योजना को अल्प, मध्यम एवं दीर्घ अवधि कार्य योजना में बांटा जाएगा। जिसके लिए एक, दो एवं तीन वर्ष का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। जिला स्तरीय विपणन कार्य योजना दल द्वारा मुख्य कार्य किए जाएंगे, जिसमें मुख्य रूप से अक्रियाशील उपमंडियों को क्रियाशील कर किसानों को उपज बेचने हेतु आकर्षित किया जाएगा। जिले में कृषकों के उत्पादन को देखते हुए नवीन मण्डी स्थापना का भी आंकलन किया जाएगा। मंडियों के अद्योसंरचनात्मक विकास के कार्य भी किए जाएंगे।
उन्होंने बताया कि मण्डी प्रबंधक द्वारा कृषि उपज के भावों में राज्य स्तर की तुलना में अंतर को न्यूनतम करने की कार्य योजना भी बनाई जाएगी। मंडियों में प्राप्त होने वाले जीन्स, मार्केटेबल, सरप्लस का अगले तीन वर्षों में क्रमश: 20, 40 एवं 60 प्रतिशत भाग की बढ़ोत्तरी कर मडिय़ों में आवक की वृद्धि सुनिश्चित की जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here