दो लापरवाह पटवारी निलंबित, अन्य को थमाए नोटिस

0
36

अलीराजपुर। अनुविभागीय अधिकारी राजस्व कट्ठीवाड़ा के सी ठाकुर ने निर्वाचन संबंधित बैठक में अनुपस्थित रहने एवं उड़द मुआवजा राहत राशि भुगतान संबंधित कार्य में लापरवाही बरतने पर कट्ठीवाड़ा हल्का नं. 28 के पटवारी प्रेमसिंह चैहान को निलंबित कर दिया। एसडीएम ठाकुर ने एक अन्य आदेश में हल्का नं. 22 के पटवारी गोपाल ओहरिया को निर्वाचन संबंधित कार्य की महत्वपूर्ण बैठक में अनुपस्थित रहने पर तत्काल प्रभाव से निलंबित करने के आदेश जारी किए हैं। निलंबन अवधि में दोनों पटवारियों का मुख्यालय तहसील कार्यालय कट्ठीवाड़ा नियत किया गया है। निलंबन अवधि में दोनों निलंबित पटवारियों को जीवन निर्वाह भत्ता की पात्रता रहेगी।
एसडीएम केसी ठाकुर ने निर्वाचन संबंधित कार्य में संतोषजनक प्रगति नहीं होने तथा उड़द मुआवजा संबंधित फसल हानि के कार्य में कास्तकारों के बैंक खातों का संग्रहण करने में लापरवाही बरतने पर कट्ठीवाड़ा तहसील के नायब तहसीलदार, आरआई एवं समस्त पटवारीगण के दो-दो माह का वेतन वृद्धि संचयी प्रभाव से रोकने संबंधित कारण बताओ नोटिस जारी किया है। एसडीएम ने समक्ष उपस्थित होकर नोटिस का जवाब देने का आदेश दिया है। जवाब संतोषप्रद प्रदान नहीं होने की स्थिति में एक पक्षीय कार्रवाई की जाएगी।
इधर, खरगौन कलेक्टर शषि भूषण सिंह ने जनपद पंचायत कसरावद के प्रभारी खंड पंचायत निरीक्षक रामलाल बरसेना को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। उन्होंने बताया कि बरसेना ने ग्राम पंचायत बैगंदी तहसील कसरावद निवासी जितेंद्र धार्वे द्वारा 11 माह पूर्व की गई शिकायत का अब तक निराकरण नहीं किया। और न ही उसे संतुष्ट जवाब दिया। सीएम हेल्पलाइन जैसे महत्वपूर्ण पोर्टल पर दर्ज शिकायत को लंबित रखते हुए पदीय कर्तव्यों के निर्वहन में गंभीर लापरवाही बरती है। इस कृत्य के लिए कलेक्टर ने बरसेना को नोटिस जारी कर 3 दिन के भीतर जवाब प्रस्तुत करने को कहा है।
इसी प्रकार खण्डवा जिले के जावर प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र की दो महिला स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं कृष्णा सिकरवार व रुकमणी वारिया के खिलाफ अपने पदीय दायित्वों के प्रति लापवाही की शिकायत प्राप्त होने पर जांच की गई। जांच के उपरांत लापरवाही व दोषी पाये जाने पर दोनों को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया। जिसका प्रतिउत्तर समुचित व समाधानकारक नहीं होने से मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ रतन खंडेलवाल ने मप्र सिविल सेवा वर्गीकरण, नियंत्रण तथा अपील नियम-1966 के अंतर्गत उक्त दोनों महिला स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं की आगामी एक-एक माह की वेतनवृद्धि असंचयी प्रभाव से रोक दी।
एजेंसी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here