जनआंदोलन बना स्वच्छता अभियान, प्रधानमंत्री की बातों ने किया प्रभावित

0
33

इंदौर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा चार वर्ष पहले शुरू किया गया स्वच्छ भारत अभियान ने जनांदोलन का रूप ले लिया है। इस अभियान ने जन मानस को सबसे ज्यादा प्रभावित किया है और स्वच्छता अब हमारी आदत में शामिल होने लगा है। इंदौर इसका उदाहरण है, जहां जन भागीदारी से शहर को पूरे देश में स्वच्छ बनाने में सफलता हासिल की है और यह देश में लगातार दूसरी बार अवव्ल रहा है। शनिवार को इंदौर सहित सम्पूर्ण देश में आगामी 2 अक्टूबर 2018 तक चलने वाले स्वच्छता से सेवा अभियान की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिये शुरुआत करने के पश्चात इंदौर के कुछ स्वच्छग्राहियों ने उक्त विचार व्यक्त किए।
प्रधानमंत्री मोदी द्वारा मध्यप्रदेश के राजगढ़ सहित देश के विभिन्न स्थानों पर मौजूद स्वच्छाग्राहियों से की गई चर्चा के सजीव प्रसारण को दिखाने की व्यवस्था फील्ड आऊटरीच ब्यूरो, इंदौर ने सीजीओ भवन में की। प्रसारण के पश्चात मयंक लाड, दीपक जेठवा, एससी गोयल, श्रीनिवास अगासे, राजन देवल सहित अनेक स्वच्छाग्राहियों ने माना कि इन चार वर्षों में बच्चों सहित सभी नागरिकों में स्वच्छता के प्रति जबर्दस्त जागरूकता आई है। उन्होंने कहा कि स्वच्छता के प्रति देश में सकारात्मक वातावरण बन रहा है और अब वह दिन दूर नहीं जब पूरा देश स्वच्छ हो जाएगा।
घरों से निकालने वाले कचड़े से खाद बनाने के लिए निरंतर लोगों को प्रेरित करने वाले मयंक लाड ने बताया कि हम अपने घरों में गीले कचड़े से खाद बनाकर नगर निगम पर पडऩे वाले बोझ को कम कर सकते हैं। उन्होंने बताया कि इंदौर में कुछ महीनों पहले थ्री आर विषय पर हुई कान्फ्रेंस के बाद जारी घोषणा पत्र को संयुक्त संघ ने भी मान्यता दी है। स्वच्छता नागरिकों की आदत और व्यवहार में आना चाहिए और यह निरंतर प्रक्रिया है।
फील्ड आऊटरीच ब्यूरो के सहायक निदेशक मधुकर पवार ने बताया कि आगामी 2 अक्टूबर तक नियमित प्रचार कार्यक्रमों में स्वछता को प्रमुखता से शामिल किया जाएगा। उन्होंने बताया कि सर्वाधिक जोर प्राथमिक कक्षाओं के बच्चों को स्वच्छता के महत्व की जानकारी देने पर किया जाएगा, क्योंकि जागरूक करने की सबसे ज्यादा जरूरत है, ताकि स्वच्छता उनकी आदत और व्यवहार में शामिल हो जाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here