कॉमनवेल्थ गेम्सः भारतीय खिलाड़ियों ने 26 गोल्ड के साथ 66 पदक किए अपने नाम

0
158

chandra bhushan tiwari

नई दिल्ली। आस्ट्रेलिया के गोल्डकोस्ट में आयोजित 24वें राष्ट्रमंडल खेलों का रविवार को समापान हो गया। खेलों में भारतीय खिलाड़ियों ने इतिहास रचते हुए 26 गोल्ड के साथ 66 मेडल अपने नाम किए। यह पिछली बार ग्लास्गो में आयोजित कॉमनवेल्थ गेम्स से दो अधिक है। पदक तालिका में भारत ऑस्ट्रेलिया और इंगलैंड के बाद तीसरे स्थान पर रहा। आखिरी दिन बैडमिंटर मुकाबले के महिला सिंगल्स में सायना नेहवाल और पीवी सिंधु आमने-सामने थीं। हाई वोल्टेज ड्रामे में साइना ने एक बार फिर अपनी श्रेष्ठता दिखाते हुए गोल्ड पर कब्जा जमाया। रियो ओलंपिक में सिल्वर मेडल विजेता पीवी सिंधु ने साइना को कड़ी टक्कर दी, लेकिन वह साइना के अनुभव से पार नहीं पा सकीं। 56 मिनट तक चले फाइनल में उन्होंने सिंधु को 21-18, 23-21 से हराया।कुछ दिन पहले ही पुरुष वर्ग में नंबर वन बने भारतीय शटलर किदांबी श्रीकांत पुरुष सिंगल में उलटफेर का शिकार हो गए। श्रीकांत को मलेशिया के दिग्गज ली चोंग वेई ने एक घंटे पांच मिनट चले मैच दौरान 19-21, 21-14, 21-14 से मात देकर गोल्ड पर कब्जा जमाया। गौरतलब है कि कॉमनवेल्थ गेम्स में अब तक भारत ने वर्ष 2010 में नई दिल्ली में हुए आयोजन में सबसे अधिक 101 मेडल हासिल किया था। हालांकि इस बार लगभग हर खेलों में भारत को नए चैंपियन मिले। सबसे अधिक हैरानीजनक प्रदर्शन टेबल टेनिस की टीम ने किया। नई दिल्ली की मनिका बत्रा ने इस वर्ग में अकेले ही 4 मेडल जीतने वाली पहली भारतीय खिलाड़ी बन गई हैं। उल्लेखनीय है कि वर्ष 1930 में शुरू हुए कॉमनवेल्थ गेम्स में भारत अब तक 505 मेडल हासिल कर चुका है। आजादी के बाद 1954 में भारत ने इन खेलों में हिस्सा लिया। लेकिन कोई भी भारतीय खिलाड़ी मेडल नहीं जीत पाया। 1958 में भारतीय खिलाडिय़ों ने 2 गोल्ड समेत तीन मेडल जीते थे। आजादी के बाद भारत ने अब तक कुल 15 कॉमनवेल्थ गेम्स में हिस्सा लिया है। इसमें उसने 181 गोल्ड, 175 सिल्वर और 148 ब्रॉन्ज के साथ 502 मेडल जीते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here