कुछ लोग राजनैतिक स्वार्थ में मुझे बुआ कहते हैं! मैं उनकी बुआ नहीं : मायावती

0
26

लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने भीम आर्मी के अध्यक्ष चंद्रशेखर उर्फ रावण पर निशाना साधा। रावण के मायावती को अपनी बुआ कहने पर मायावती ने कहा कि कुछ लोग अपने राजनैतिक स्वार्थ में तो कुछ बचाव के लिए मेरे साथ अपनी रिश्तेदारी जोड़ रहे हैं। मेरा ऐसे लोगों से कोई रिश्ता नहीं है। मायावती रविवार को लखनऊ में अपने नये आवास में प्रवेश के बाद पत्रकारों को संबोधित कर रही थी।
मायावती ने कहा कि भीम आर्मी जैसे संगठन समाज के सामने कहते कुछ हैं और करते कुछ हैं। ऐसे लोगों से समाज को सावधान रहना चाहिए। यदि यह लोग समाज के हित में सोचते थे तो इन्हें कोई अपना अलग संगठन नहीं बनाना चाहिए था।

रावण ने क्यों बनाया अलग संगठन

उन्होंने कहा कि वह करोड़ों लोगों की लड़ाई लड़ रही हैं। उन्होंने रावण के लिए कहा कि अलग से संगठन बनाने की जरूरत क्यों? बसपा के झंडे के नीचे आकर लड़ाई लड़ें। समाज में ऐसे बहुत से संगठन बनते चले आ रहे हैं जो अपना धंधा चलाते हैं। उन्होंने कहा कि सहारनपुर हिंसा में आरोपी चंद्रशेखर मुझसे रिश्ता दिखा रहा है जबकि मेरा सिर्फ गरीबों से रिश्ता है। ऐसे किसी व्यक्ति से मेरा रिश्ता नहीं है जो समाज में हिंसा को बढ़ाने का काम करते हैं। राजनीतिक स्वार्थ के लिए लोग मुझसे रिश्ता दिखा रहे हैं।
इनके जैसे लोग अपने स्वार्थ के कारण ऐसा कर रहे हैं। गरीब व दलितों के हित में काम करने की अपेक्षा यह लोग अपना उल्लू सीधा करने की खातिर इनको अपने जाल में फंसाने में लगे हैं।

भाजपा चुनाव नजदीक देख कर रही वादे

मायावती ने कहा कि भाजपा की केंद्र सरकार और राज्य सरकारों की गलत नीतियों को ध्यान दिलाना चाहती हूं। जैसे-जैसे लोकसभा और कई राज्यों में विधानसभा चुनाव पास आ रहा है भाजपा लुभावने वादे कर रही है। भाजपा ने कोई चुनावी वादे को पूरा नहीं किया। अब आम जनता इनके झांसे में आने वाली नहीं है। भाजपा ने देश के करोड़ों गरीबों, मजदूरों, किसानों, बेरोजगारो के साथ वादाखिलाफी की है। कहा कि केंद्र और राज्यों की सरकार अपनी विफलताओं को छिपाने के लिए तरह-तरह की रणनीति अपना रहे है। उन्होंने एक भी चुनावी वायदे पूरे नहीं किए।

सम्मान जनक सीटें ना मिलने पर अकेले लड़ेंगे चुनाव

उन्होंने कहा कि बसपा गठबंधन के खिलाफ नहीं है, लेकिन बसपा सम्मानजनक सीट मिलने पर ही साथ लड़ेगी। सम्मानजनक सीट ना मिलने पर बसपा अकेले लड़ेगी। उन्होंने कहा कि राज्यों के चुनाव के साथ लोकसभा के चुनाव में भी भाजपा को सत्ता में आने से रोकने के लिए विपक्षी पार्टियां काम कर रही हैं। अब जनता का भाजपा पर ज्यादा भरोसा करना अपने पैर पर कुल्हाड़ी मारने जैसा है।

दलितों की मदद करने वाले अधिवक्ता हो रहे परेशान

मायावती ने कहा कि कोर्ट कचहरी में दलितों की मदद करने वाले वकीलों और एनजीओ के साथ भी भाजपा सरकार अन्याय कर रही है। भाजपा शासित राज्यों में गो-रक्षा के नाम पर मॉब लॉन्चिंग लोकतंत्र को कलंकित कर रहा है। उन्होंने कहा कि सुनहरे दिन के सपने दिखाकर बीजेपी ने केवल पूंजीपतियों का भला किया।
मायावती ने कहा कि एससी/एसटी एक्ट को लेकर 2 अप्रैल की घटना के बाद कई दलित लोगों को भाजपा वालों ने अब तक जेल में बंद कर के रखा हुआ है। इससे दलितों के प्रति भाजपा की मानसिकता का पता चलता है।

अटल बिहारी वाजपेयी के नाम को भुनाने का प्रयास कर रही भाजपा

मायावती ने भाजपा पर पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी के नाम को भुनाने का गंभीर आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि अटल जी के जिंदा रहते भाजपा उनके पदचिन्हों पर जरा सा भी नही चली लेकिन उनके जाने के बाद उनका नाम लिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि चुनाव नजदीक आते ही भाजपा के नेता अब तरह-तरह के हथकंडे अपना रहे हैं।
एजेंसी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here